अभिनेता इमरान खान का निधन : जानिये कैसे इस भारतीय अभिनेता ने बॉलीवुड और हॉलीवुड में अपनी सफलता के झंडे गाड़े


अभिनेता इरफ़ान खान, जिन्होंने बहुत सी फिल्मों को अपनी उम्दा अदाकारी से सफलता की ऊंचाइयों पे पहुँचाया, उनका आज 29.04.2020 को 54 साल की उम्र में निधन हो गया. वह न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर से पीड़ित थे। इरफ़ान ने अपनी अदाकारी की छाप बॉलीवुड ही नहीं बल्कि हॉलीवुड में छोड़ी और कई अलग अलग भाषाओँ में फ़िल्में की।

इरफान,जिन्हें 2011 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया था, लगभग 25 वर्षों से टीवी, फिल्मों और थिएटर कार्यों में सक्रिय थे। उन्होंने फिल्मों में अपने अभिनय करियर की शुरुआत मीरा नायर की व्यापक रूप से प्रशंसित फिल्म सलाम बॉम्बे के साथ एक किराए के लेखक के रूप में की। लेकिन यह एक सुपर नोवा प्रतिभा की शुरुआत भर थी जो सिनेमा इंडस्ट्री और दर्शकों के दिलो दिमाग पे अपनी एक अलग छाप छोड़ने जा रही थी देश ही नहीं विदेशों में भी।

हिंदी फिल्म उद्योग के हाल के वर्षों में सबसे बेहतरीन अभिनेताओं में से एक इरफ़ान खान ने सिनेमा इंडस्ट्री में अपने स्ट्रगल को अपने प्रतिभा से बखूबी मात दिया और सफलता की उन ऊंचाइयों को छुआ जो बहुतों के लिए दिवा स्वप्न होता है। 90 के दशक में वह एक डॉक्टर की मौत और बड़ा दिन जैसी फिल्मो में दिखाई दिए, पर इंडो – ब्रिटिश प्रोडक्शन द वारियर से वह सुर्ख़ियों में आये और लोगों के मन में उनकी प्रतिभा की और झलक देखने के लिए कौतुक होने लगी।

इस बीच भारत में हिंदी टेलीविज़न के दर्शक उनकी बहुमुखी प्रतिभा से परिचित हो चुके थे। चंद्रकांता, बनेगी अपनी बात और स्टार बेस्टसेलर शो के जरिये उन्होंने अपनी अलग पहचान बनायी। बाद में अलौकिक घटनाओं पर आधारित शो मानो या ना मानो की मेजबानी की। २००३ में तिगमांशु धूलिआ की फिल्म हासिल में इरफ़ान की अदाकारी ने उन्हें एक क्राउड पुलर यानि की दर्शक बटोरने वाले अभिनेता के रूप में प्रत्यास्थापित कर दिया।

उन्होंने जल्द ही मक़बूल, आन, रोड टू लद्दाख और रोग जैसी फिल्मो में काम कर अपनी विभिन्न किरदारों को निभाने की अपनी शानदार प्रतिभा का लोहा मनवाया। फिल्म निर्माताओं ने भी इस कलाकार की प्रतिभा को भुनाने में कोई कसर नहीं गंवाया जो नए नए प्रयोगों से डरता नहीं था।

स्लमडॉग मिलियनेयर लाइफ ऑफ़ पाई और स्पाइडर मैन जैसी हॉलीवुड फिल्मों ने इरफ़ान के करियर में चार चाँद लगाए। पान सिंह तोमर जैसी अवार्ड विजेता फिल्म और हिंदी मिडियम जैसी फिल्मों में इरफान की जीवंत अदाकारी हमेशा याद रखी जाएगी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *