शनिदेव का एक ऐसा अनोखा मंदिर, जहाँ भ्रष्ट नेताओं और मंत्रियों को आना मना है


भारत में मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारों और गिरिजाघर बहुत हैं, जहां हर कोई जा सकता है। कहीं – कहीं पर कुछ पाबंदियां होती हैं जैसे कि कहीं पुरूषों के प्रवेश पर पाबंदी है तो कहीं पर महिलाओं के प्रवेश पर। पर ओहदे के मानकों पर प्रवेश पर पाबंदी कहीं नहीं है। पर आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जहां भ्रष्ट नेताओं, मंत्रियों और अधिकारियों का प्रवेश वर्जित है।

उत्तर प्रदेश के कानपुर विश्वविद्यालय के पीछे स्थित एक ऐसा अनोखा शनिदेव का मंदिर है है जिसके द्वार आम भक्‍तों के लिए सदा खुले हैं पर भ्रष्ट नेताओं और अधिकारियों को यहां आने की बिल्‍कुल भी अनुमति नहीं है। इस मंदिर का नाम है भ्रष्ट तंत्र विनाशक शनि मंदिर।

निजी भूमि पर बने इस मंदिर में मूर्तियों को भी तर्कों के आधार पर स्थापित किया गया है। शनि देव की तीन मूर्तियों के साथ ब्रह्मा की मूर्ति स्थापित की गई है, इससे ऐसा प्रतीत होता है कि ब्रह्मा सीधे शनि देव को देख रहे हों। इन मूर्तियों के साथ ही भगवान हनुमान की भी एक प्रतिमा स्थापित की गई है। 

सबसे दिलचस्प बात यह है कि मंदिर में कुछ अधिकारियों, मंत्रियों व नेताओं की तस्वीरों को इस तरह लगाया गया है कि शनि देव की नजर उन पर रहे। लोगों का मानना है कि इसके पीछे का मकसद इतना है कि समाज में व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के जिम्मेदार इन लोगों की ओर से जनता विरोधी निर्णय लेने की स्थिति में इन्हें शनि देव का कोपभाजन बनना पड़े। 

इस मंदिर में मूर्तियों के ऊपर तेल चढ़ाना, प्रसाद चढ़ाना और घंटा बजाना निषिद्ध है। हालांकि, यहां लौंग, इलायची और काली मिर्च के साथ मिट्टी के दीये चढ़ाए व जलाए जा सकते हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *